शनिवार, 20 अप्रैल 2013

दर्द को बिखरने न दो

दर्द को बिखरने न दो   

 


रोक लो आँसुओं  को
बादल बन बरसने न दो
दर्द को अकेले ही पी लो
बाँट कर बिखरने न दो ।

यादों के झरोखों से
चुन लो वो ख़ुशी
पायी थी जो कभी
उसे ही भरपूर जी लो
सिमटने न दो ।

छिटकती चांदनी को
फैला आँचल समेट  लो
तिमिर की ओढ़नी में सजा
थोड़ी देर सहेज लो
निकलने न दो ।

उम्मीदों से भरे जीवन को
परखो कठिनाइयों से
पर न भूलो अपने अस्तित्व को
सघर्षरत पहचान बना लो
मिटने न दो ।  

दर्द को महसूस करो
थोड़ी देर जी लो
खुद को उसमे उलझने न दो
 दर्द को बिखरने न दो ।  



23 टिप्‍पणियां:

  1. उम्मीदों से भरे जीवन को
    परखो कठिनाइयों से
    पर न भूलो अपने अस्तित्व को
    सघर्षरत पहचान बना लो
    मिटने न दो ।
    संघर्ष ही जीवन है...बहुत सुन्दर भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  3. धैर्य ही जीवन संवार देता है ....निखर देता है ...
    बहुत सुन्दर भाव ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्मीदों से भरे जीवन को
    परखो कठिनाइयों से
    पर न भूलो अपने अस्तित्व को
    सघर्षरत पहचान बना लो
    मिटने न दो -----वाह जीवन का सच
    सुंदर प्रस्तुति

    आग्रह हैः मेरे ब्लॉग में सम्मलित हों

    उत्तर देंहटाएं
  5. wahh.. kya khoob .. umda lekhan .. Badhai
    दर्द को महसूस करो
    थोड़ी देर जी लो
    खुद को उसमे उलझने न दो

    उत्तर देंहटाएं
  6. दर्द बिखर गया तो तमाशा बन जाएगा ...
    इसको अमृत बम लो ... खुद ही जी लो ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह..
    छिटकती चांदनी को
    फैला आँचल समेट लो
    तिमिर की ओढ़नी में सजा
    थोड़ी देर सहेज लो
    निकलने न दो ।

    बहुत कोमल भाव संध्या जी...
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. दर्द को महसूस करो
    थोड़ी देर जी लो
    खुद को उसमे उलझने न दो
    दर्द को बिखरने न दो ।---
    बहुत सुन्दर भाव
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपसभी को ............

      हटाएं
  11. दर्द को महसूस करो
    थोड़ी देर जी लो
    खुद को उसमे उलझने न दो
    दर्द को बिखरने न दो ।
    डॉ संध्या जी जिन्दगी के सच को उकेरती हौसला देती सुन्दर रचना ...
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  12. अश्क़ को झरने न दो
    तिमिर को पसरने न दो
    सुंदर संदेश मिल रहा
    दर्द को बिखरने न दो....

    वाह !!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति "रोक लो आंसुओं को .बदलो को बरसाने दो ,तिमिर की ओढ़नी में चांदनी को बिखरने दो, ........

    उत्तर देंहटाएं
  14. दर्द को महसूस करो
    थोड़ी देर जी लो
    खुद को उसमे उलझने न दो
    दर्द को बिखरने न दो ।

    जिंदगी की हकीकत को स्वीकारती सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खूब, सुन्दर प्रस्तुति. उत्तम भाव..

    उत्तर देंहटाएं