शुक्रवार, 14 सितंबर 2012

हिंदी हमारे देश की बिंदी और क्षेत्रीय भाषाएँ उसकी सजावट

हिंदी हमारे देश की बिंदी और  क्षेत्रीय भाषाएँ उसकी सजावट



निज भाषा उन्नति अहै , सब उन्नति को मूल ।
बिन निज भाषा ज्ञान के , मिटत  न हिय को सूल ।।
अंग्रेजी पढिके जदपि , सब गुण होत  प्रवीन ।
पै निज भाषा ज्ञान बिन , रहत हीन  के हीन  ।।

भारतेंदु हरिश्चंद के ये पंक्तियाँ मुझे हिंदी दिवस के दिन याद आ जाती है । आज भी हमें ढोल पीटकर यानि आयोजनों के द्वारा हिंदी को याद करना पड़ता है , ये है हमारी ओर  से हिंदी का सम्मान, वो भी सिर्फ एक दिन का । अगले दिन फिर हमारी सुबह गुड मॉर्निग से शुरू होती है और गुड नाईट पर ख़त्म होती है । हम आयोजनों में रूचि रखते हैं लेकिन ये कभी नहीं करते कि घर के बच्चों को अपनी मातृभाषा में बात करना सिखाएं । बचपन से ही यदि बच्चों को हिंदी का शुद्ध उच्चारण सिखाया जाय  तो हमारे देश में हिंदी दिन पर दिन परायी नहीं होती जाएगी । अंग्रेजी के निचे दबी हमारी हिंदी अब छटपटा रही है आजाद होने के लिए और हम ख़ामोशी से उसे बेबस होते देख रहे है ।
                               मुझे ख़ुशी होती है जब हम ब्लॉग लिखने वाले सभी साथी एक- दूसरे का प्रोत्साहन करते है और हमारा भी प्रयास हिंदी की महत्ता को बढ़ने में योगदान देता है । हिंदी हमारे देश की बिंदी है और क्षेत्रीय भाषाएँ उसकी सजावट , तभी तो हमारा देश रंग-रंगीला है ।  

                                            हिंदी दिवस पर शुभकानाएं 





                                    

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया.....

    सुन्दर सामायिक पोस्ट....
    शुभकामनाएं हिंदी दिवस की...
    दिनों दिन मान बढे हिंदी का...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हम सभी चाहते है की हमारी हिंदी का मान बढ़ता रहे ......धन्यवाद

      हटाएं
  2. बिल्‍कुल सही कहा आपने ... पूर्णत: सहमत हूँ आपकी बात से
    हिन्‍दी दिवस की अनंत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी दिवस की आपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं..
    बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी हमारे देश की बिंदी और क्षेत्रीय भाषाएँ उसकी सजावट..बहुत सही.. हिंदी दिवस पर शुभकानाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सार्थक प्रस्तितु हिंदी दिवस पे ...
    ये बिंदी यूं ही चमकती रहे देश के माथे पे ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. संध्या जी सार्थक लेख है आपका ....गुलाबी सौंदर्य ब्लॉग की शोभा बढ़ा रहा है ...!! हिंदी दिवस की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावना है, निज भाषाओं के महत्व को पहचाना जाये!

    उत्तर देंहटाएं