गुरुवार, 20 सितंबर 2012

एक पगली 

उस रोज की  तरह 
वह आज भी चिल्लायी ,
तड़पी , जी भर के रोयी ,
अपनी बेबसी , लाचारी ,
सिमटती खुशियों के बीच 
उम्मीद की किरण की आस थी 
पुनः मधुर प्रणय की  प्यास थी
पर रिश्तों के धागे  टूट चुके  थे  
उसकी तड़प को  मान  चुके थे 
कि अब वो बन के रह गयी 
बस एक पगली ...........बस एक पगली 


उस पगली को रोज देखती  हूँ और मन व्यथित हो जाता है , सोंचती हूँ इसका भी कोई परिवार होगा पर क्यों इसे ऐसे छोड़ दिया ?
 

20 टिप्‍पणियां:

  1. मन विह्वल करती रचना ...!!कैसे लोग इतने अन्यायी हो जाते है ...??

    उत्तर देंहटाएं
  2. परिवार तो होगा,,,पर बेसहारा सडको पर भटकने के लिये अकेला क्यों छोड़
    जाते है,,
    मन को कचोटती रचना,,,,

    RECENT P0ST ,,,,, फिर मिलने का

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावमय करती शब्‍द रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेबसी पागल कर देती है...सच है!!!

    मार्मिक.

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. apki kavita me bahut hi hridaya vidarak pida chipi huyi hai..

    ek marmspashi bhavana..
    sundar..

    उत्तर देंहटाएं
  6. और अब यही उसकी पहचान बन गयी...दुखद..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सार्थक अभिव्यक्ति। मेरे नए पोस्ट 'समय सरगम' पर आपका इंतजार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आस के धागे जब टूटते हैं ... उम्मीद की किरण गुम हो जाती है ..
    पागल होने के सिवा कुछ रहता ही कहाँ हैं ...
    भावमय रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपका काव्य चित्रण एवं कविता में सन्निहित भाव अच्छे लगे। मेरी नई पोस्ट 'बहती गंगा' पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. dard ki inteha hi insan ko pagal bana deti hai achchi sonch ke sath dard komahsus kiya hai apne.

    उत्तर देंहटाएं
  11. मार्मिक दृध्य है, परिवार ही न रहा हो ऐसा भी हो सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं