शनिवार, 12 मई 2012

          व्यथा 

 एक दर्द है  छिपा हुआ 
टीस उठती है बार-बार 
वेदना होती है भीतर तक 
स्पष्ट लकीरें चेहरे पर 
बाहर आने को फड़फड़ाते होठ 
पर गिर पड़े दो बूंद आंसू के 
और  बह गए दर्द 
पुन : दबी रह गयी व्यथा ।

24 टिप्‍पणियां:

  1. मर्मस्पर्शी ...व्यथा ....!!
    बहुत सुंदर रचना ...!!
    शुभकामनायें ....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है दर्द दिल में होता है आँखे रोती है....और मन शान्त.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाहर आने को फड़फड़ाते होठ
    पर गिर पड़े दो बूंद आंसू के
    और बह गए दर्द
    पुन : दबी रह गयी व्यथा ।

    सुंदर बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति,......

    MY RECENT POST ,...काव्यान्जलि ...: आज मुझे गाने दो,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर

    मां मेरे गुनाहों को कुछ इस तरह से धो देती है
    जब वो बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दर्द दिल में होता है
    हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, ... शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. aap sabhi ko dhanyvad ---------prerna ka sabse achcha madhyam hai hamara sampark---------abhar

      हटाएं
  7. व्यथा की कहानी ... दर्द का एहसास ...
    मार्मिक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं




  8. दबी रह गयी व्यथा
    आह !
    मार्मिक लिखा …
    डॉ.संध्या तिवारी जी

    आपकी कुछ पुरानी पोस्ट्स भी देखी …

    चलती रहे लेखनी अनवरत …


    हार्दिक शुभकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut acchi abhiwaykti dil ko choo gai is page ki sabhi rachnayen padhi....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद निशा जी, बहुत बहुत आभार

      हटाएं
  11. वो जो तूफां है
    तोड़ता है किनारा
    बिना विध्वंस के!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं