रविवार, 4 अगस्त 2013

     दोस्ती 


















दोस्ती वह बंधन नहीं है 
जो रिश्तों की डोर से बंधी होती 
न ही  सिमटी होती 
निश्चित दायरे में 
यह  निकलती है 
एक पतले धागे के रूप में 
मन के किसी कोने से 
और परत-दर-परत 
मोटी  होती जाती है 
अनगिनत अहसासों से 
जो महसूस किये जाते हैं 
किसी उस "अपने" से 
जिसके होते हैं हम "अपने"
अपना लिए जाते हैं 
जिसके हिस्से की खुशियाँ और गम 
जो दर्शाए नहीं जाते 
महसूस किये जाते  हैं 
कि भीड़ में से कोई कब 
अपना "अजीज" बन गया 
साथ ऐसे चल पड़ा कि 
दोस्त अपना बन गया …………। 



21 टिप्‍पणियां:

  1. सच है दोस्त जाने कब जुड़ जाते हैं हमसे..... वो भी सदा के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर , ढेरो शुभकामनाये मित्र दिवस की

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति....
    आपको भी दोस्तों की दोस्ती मुबारक :-)

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढि़या प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मित्रता एक अनमोल जज्बा है..सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोस्ती को बाखूबी बयाँ किया है ... सच है ये डोर समय के साथ मोटी होती जाती है ... मित्रता दिवस की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर रचना है।
    शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती, मित्रता दिवस की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर रचना....
    मित्रता दिवस की शुभकामनायें ....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थकता लिये सशक्‍त अभिव्‍यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. दोस्ती एक रिश्ता जो स्वार्थ के दायरे के बाहर ही फलता-फूलता है
    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी यह रचना कल मंगलवार (06-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर और सार्थक.. मित्रता सबसे अनमोल जज्बा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर ,सटीक और प्रभाबशाली रचना। कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  16. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें!!! आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    उत्तर देंहटाएं
  17. दोस्त अपनी मर्ज़ी के होते हैं..इसलिए और अधिक प्रिय होते हैं.....

    उत्तर देंहटाएं