गुरुवार, 16 अगस्त 2012

प्रेम की परिभाषा              
भोर की किरणों 
सा सुन्दर , निर्मल 
ओस की बूंदों सा 
कोमल , स्फूर्तिदायक 
खिलती कली  सी 
मोहक , मासूम 
उपमाओं से अलंकृत 
आँखों की सुन्दर भाषा 
                    यही है प्रेम की परिभाषा 

जो है फिर  नहीं है 
और नहीं है फिर भी है 
रेगिस्तान में पानी की 
एक बूंद के सामान 
धरती और आकाश  के 
मिलन के समान 
अनंत सागर में 
भटकते नाविक की भाँति 
बेचैन , बेबस 
पूर्णतया समर्पित 
फिर भी अतृप्त 
मन की अभिलाषा 
             यही है प्रेम की परिभाषा 

पुष्पों के रस चूसते 
भ्रमर की भाँति मदहोश 
नदी  की शांत जलधारा                               
के सामान  खामोश 
ह्रदय को झंकृत करती                               
सुरों की तान 
एक मधुर अहसास 
बिना शब्दों की भाषा 
                यही है प्रेम की परिभाषा 


26 टिप्‍पणियां:

  1. एक मधुर अहसास
    बिना शब्दों की भाषा
    यही है प्रेम की परिभाषा

    .... बिलकुल सच... बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम की मधुर परिभाषा..सुन्दर रचना के लिए बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी कविता ने मन के संवेदनशील तारों को झंकृत कर दिया। बहुत ही बढ़िया । राही मासूम रजा की एक सुंदर कविता पढ़ने के लिए आपका मेरे पोस्ट पर आमंत्रण है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाकई मधुर अहसास...
    शुभकामनायें आपको डॉ संध्या !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सटीक प्रेम की परिभाषा बधाई की पात्र हैं आप

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम को नए रूप में परिभाषित करती लाजवाब रचना ...
    भावपूर्ण रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरत अंतर्मन और क्षण में कविता के माध्यम से प्रेम को परिभाषित किया गया है |आभार डॉ० संध्या जी |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना पढने के लिए आपसभी का धन्यवाद

      हटाएं
  8. न कोई जिज्ञासा न कोई प्रत्याशा
    यही है प्रेम की परिभाषा
    सुन्दर व्याख्या बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिना शब्दों की भाषा
    यही है प्रेम की परिभाषा

    क्या बात है ...
    बहुत सुंदर ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी प्रस्तुति!मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. भावों को एहसास कराती,
    यही है प्रेम की परिभाषा,,,,,लाजबाब पंक्तियाँ ,,,,संध्या जी,,

    RECENT POST ...: जिला अनूपपुर अपना,,,

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक मधुर अहसास
    बिना शब्दों की भाषा

    यही है प्रेम की परिभाषा

    बहुत अच्छी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब.
    सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रेम को परिभाषित करने जैस कार्य बहुत खोब्ब्सुरती से किया है. अत्यंत भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर। मेरे नए पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।

    उत्तर देंहटाएं